जिस्मो-जुगराफिया तुझसा नहीं जबर कोई ।।

तू है क्या चीज़ ये तुझको नहीं ख़बर कोई ।।

फिर दिखाई न पड़े उसको कुछ सिवा तेरे ,

तुझको इक बार ही बस देख ले अगर कोई ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *