जब पूरी पाई ना आध ॥

थी जिसकी वर्षों से साध ॥

इस कारण कर बैठा हाय ,

उसकी हत्या का अपराध ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *