हँसता-हँसता ये शाद उठता है ॥

दर्द ये नामुराद उठता है ॥

दुबका रहता है सामने सबके ,

सबके जाने के बाद उठता है ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *