सब्ज़ कब सुर्ख़ कब ? ये ज़र्द-ज़र्द लिखती है ॥

औरत-औरत ही लेखती न मर्द लिखती है ॥

चाहता हूँ मैं लफ़्ज़-लफ़्ज़ में ख़ुशी लिक्खूँ ,

पर क़लम मेरी सिर्फ़ दर्द-दर्द लिखती है ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *