तोहफ़े वो भेजें जानबूझकर न भूल के ।।

काँटों के वो भी नोकदार चुन बबूल के ।।

उस पर भी तुर्रा कहके ये कुबूलें हम उन्हें ,

जैसे वो फाहे रूई के हों , गुच्छे फूल के ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *