रहा हूँ उसके बहुत साथ मैं न कम , लेकिन ॥

किए हैं उसने कई मुझपे हाँ करम , लेकिन ॥

यक़ीं तो आए कि मेरा कभी वो था कि नहीं ,

करूँ तभी तो बिछड़ने का उससे ग़म , लेकिन ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *