लुंज केंचुए मेनकाओं को नृत्य सिखाते हैं ॥

झूठे राजा हरिश्चन्द्र को सत्य सिखाते हैं ॥

सूरदास इस नगर के वितरित करते-फिरते दृग ,

सदगृहस्थ को अविवाहित दांपत्य सिखाते हैं ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *