कौन विहग दूँ भेंट तुझे ? जब मन ख़याल लाया ।।

मोर , पपीहा छोड़ सभी खग , मैं मराल लाया ।।

पुष्प समर्पण हेतु स्वयं जा ताल-मध्य से कुछ ,

नीलकमल ,श्वेत उत्पल के सँग पद्म लाल लाया ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *