अदा से , नाज़ से , अंदाज़ से , हक़ से , क़रीने से ॥

टिका रक्खा था उसने अपने सर को मेरे सीने से ॥

यक़ीनन वादियों में था वो मौसम बर्फ़बारी का ,

मगर उस वक़्त लथपथ हो रहा था मैं पसीने से ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *