जो गप्पी लोगों को देता फिरता गच्चा ॥

कैसे मानलूँ है इस बार वो सचमुच सच्चा ?

ढोल जो पीट मुनादी करता फाड़ गले को ,

हट्टा-कट्टा जन्मा रे किन्नर ने बच्चा !!

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *