( चित्र Google Search से साभार )

टाँगें उल्टी वो मोड़ता है , न आँखों को ही वो फोड़ता है !!

ना उखाड़े वो चोंचें , ना गर्दनें मरोड़े , न तोड़ता है !!

है परिंदों का ऐसा दुश्मन , कि मारता ना कभी उन्हें वो ,

बाँध पिंजरों में डाल देता , या पर क़तर के वो छोड़ता है !!

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *