कुछ ऐसा मेरे दिल पे अपना क़ब्ज़ा कर चुके हो ॥

यूँ ख़्वाबों में , ख़यालों में लबालब भर चुके हो ॥

ज़माना कह रहा है तुम ज़माने में नहीं अब,

यकीं मुझको नहीं आता मगर तुम मर चुके हो ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *