दरो-दीवार चाँदी की हों ,छत सोने मढ़ी माना ॥

भले रिसता हो कोने-कोने से चमचम अमीराना ॥

जहाँ के सुन लतीफ़े , मस्ख़रे तक कर भी बाशिंदे –

नहीं हँसते , उसे मैं घर नहीं ; बोलूँ अज़ाख़ाना ॥

( अमीराना =धनाढ्यता ,लतीफ़े =चुट्कुले ,मसख़रे =विदूषक ,तक =देख ,बाशिंदे =निवासी ,अज़ाख़ाना =शोक गृह )

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *