मुसाफ़िर सारे के सारे कहाँ मंज़िल से मिलते हैं ?

सफ़ीने सब के सब कब वक़्त पे साहिल से मिलते हैं ?

मिला करते हैं लग-लग के गले भी लोग और कस-कस ,

मिलाते हाथ भी हैं सच मगर कब दिल से मिलते हैं ?

मुलाक़ातें तो अनचाहों से बारंबार हों अपनी ,

ज़माने में कभी तुमसे बहुत मुश्किल से मिलते हैं ।।

न होगा हमसा कोई दूसरा अहमक़ ख़ुदाई में ,

मिलें दानिशवरों से सब हमीं बस चिल से मिलते हैं ।।

बहुत हैरान हूँ मैं ज़िंदगी की भीख को मुर्दे ,

बढ़ाकर हाथ-बाँँहें अपने ही क़ातिल से मिलते हैं !!

मरा करते हैं सब सूरज के चुँधियाते उजालों को ,

हमीं इक टिमटिमाते तारों की झिलमिल से मिलते हैं ॥

( ख़ुदाई =संसार ; अहमक़ =मूर्ख ;दानिशवर =ज्ञानी ; सफ़ीना =नाव ; चिल =मूर्ख )

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *