ख़ुद पे ख़ुद का दिल तहेदिल से लुटाता हूँ ॥

ख़ुद को ख़ुद के ही गले कसकर लगाता हूँ ॥

क्योंकि बनता ही नहीं कोई मेरा अपना ,

ख़ुद को ख़ुद का आईना तक मैं बनाता हूँ ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *