मर-मर के मुझको गर तुम जीने से रोक लेते ॥

सीना अड़ा के अपने सीने से रोक लेते ॥

क्यों होता बादाकश ? क्यों बेगाना होश से मैं ?

पहली ही काश ! बोतल पीने से रोक लेते ?

( बादाकश =शराबी )

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *