स्वच्छ-कर्ता को महा दूषक बना देता ।।

दुग्धप्रिय को रक्त का चूषक बना देता ।।

सिर-मुकुट को पाँव की चप्पल बना डाले ,

काल क्षण में हस्ति को मूषक बना देता ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *