कभी यूँ ही कभी ग़ुस्से में भरकर मारते हैं वो ॥

मगर तय है कि आते-जाते अक्सर मारते हैं वो ॥

झपटकर,छीनकर,कसकर,जकड़कर अपने हाथों से  ;

मेरे शीशा-ए-दिल पे खेंच पत्थर मारते हैं वो ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *