खड़े हो , बैठ उकड़ूँ या कि औंधे लेट ; पर लिखना ॥

लिखे को काट कर या उसको पूरा मेट कर लिखना ॥

किसी उँगली से अपनी नाम मेरा तुम ज़रूर इक दिन ;

मेरे चेहरे पे , सीनो पुश्त पे जी – पेट भर लिखना ॥

( पर = परंतु , सीनो पुश्त = छाती और पीठ , जी = तबीअत )

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *