रहूँगा मैं नहीं तैयार खाने मार होली में ॥

लगा फटकार निसदिन पर मुझे चुमकार होली में ॥

तू मुझसे दूर रहले साल भर भी मत मुझे तक तू ,

लगा कस – कस गले मुझको मगर हर बार होली में ॥

न जाने क्या हुआ मुझको अरे इस बार होली में ?

मैं चंगा था यकायक पड़ गया बीमार होली में ॥

हसीना इक मैं जैसी चाहता था सामने आकर ,

लगी करने जो मेरा एकटक दीदार होली में ।

हमेशा ही रहा करता हूँ मैं तैयार होली में ॥

अगर चाहे तो तू तेरी क़सम इस बार होली में ॥

बहुत लंबी , बहुत चौड़ी , बहुत ऊँची गिरा दे वो –

हमारे दरमियाँ है जो खड़ी दीवार होली में ॥

भले काँटों का ही पहना तू लेकिन हार होली में ॥

दिखावे को ही कर लेकिन फ़क़त कर प्यार होली में ॥

शराबों के नशे कितनी पियूँ चढ़कर उतर जाते ,

मुझे अपनी निगाहों की पिलादे यार होली में ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *