मैंने पाया है क्या और किससे हूँ वंचित ?

पूर्ण कितना हूँ मैं और कितना हूँ खंडित ?

 भेद पूछो जो क्या है मेरी लालिमा का ,

 जान जाओगे मैं कितना हूँ रक्तरंजित ?

   -डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *