पूर्णतः करते स्वयं को जब समर्पित !!

प्रेम तब बैरी से कर पाते हैं अर्जित !!

जान लोगे यदि गुलाबों से मिलोगे ,

पुष्प सब काँटों में क्यों रहते सुरक्षित ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *