हैं उसके अक़्ल वाले द्वार बंद देखिए ।।

लेकिन दयालुता भरी पसंद देखिए ।।

करता है आज कौन उल्लुओं से दोस्ती ,

भैंसों से प्यार करता अक़्लमंद देखिए ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *