इश्क़-मोहब्बत की बातें करने से वह क्यों बचता है ?

क्या अब तक नाबालिग़ है वह या फिर कोई बच्चा है ?

हाय ! जवाँ क्या बच्चे भी जिस दौर में इश्क़ हैं फ़रमाते ,

वह पट्ठा क्यों सिर्फ़ ज़ुह्द की भारी बातें करता है ?

( नाबालिग़ = अवयस्क , पट्ठा = जवान , ज़ुह्द = विरक्ति , इंद्रिय निग्रह )

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *