चमचमाते दिन में ना

भूले भी काली रात में ।।

क़र्ज़ में हरगिज़ नहीं ,

बिलकुल नहीं सौग़ात में ।।

मुझपे गर दिल आये तो ही

मुझसे करना प्यार तू ,

लूटना है दिल तेरा ,

पाना नहीं ख़ैरात में ।।

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *