मुक्तक : 951 – ग़लत

हमने तो जिसने ग़म दिया उसे भुला दिया ।। आँखों को उसकी सिम्त से घुमा-फिरा लिया ।। तुमने किया ग़लत जो बेवफ़ा की याद में , पी-पी जिगर को फूँक-फूँक ग़म ग़लत किया ।। -डॉ. हीरालाल प्रजापतिRead more