मुझको औरत न कहो आदमी हूँ मैं यारों ,
ग़म में पतलून से जो घाघरा मैं हो बैठा ।।
दर्द ना क़ाबिले बर्दाश्त हो गया था तो ,
मर्द होकर भी सरेआम मैं भी रो बैठा ।।
अपने जज़्बात सँभाले नहीं सँभल पाए ,
दिल के अरमाँ तो दबाने से और उछल आए ,
लड़ गई आँख थी हिरनी से शेर था तो क्या ,
अपने दिल से मैं उसी वक़्त हाथ धो बैठा ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

This article has 4 comments

  1. B L Kumbhakar Reply

    बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *