■ मुक्तक : 999 – फ़र्क़

पास आने दो महक अपने तन की लेने दो , दूरियों से तो दमकता गुलाब लगते हो ।। जब तलक पी न लें कैसे पता चले क्या हो ? देखने में तो पुरानी शराब लगते हो ।। लोग कहते हैं...Read more