∆ सॉनेट : 08 – भूल

क्या करूँं अब हो गई जो मुझसे भारी भूल ? रख सका अपने न दिल में मैं उसे आबाद ।। अब करूँ भी तो नहीं आती है उसकी याद , इस क़दर उसको भुलाने में रहा मशगूल ।। क्या हुआ...Read more