∆ सॉनेट : 09 – हादसा

ये मुझ सँग आजकल ज्यों हादसा ही घट रहा ; मेरा महबूब कुछ बरताव ऐसा कर रहा ।। मुझे पहचानने से बज़्म में नट-नट रहा ; जो पहलू में मेरे ख़ल्वत में शब-शब भर रहा !! नहीं था वो कभी...Read more