🎊 माहिया 🎊

उस वक़्त भी कब रोया ? उम्र का सब हासिल , दम भर में ही जब खोया ।। ***************** तुम रोओ महफ़िल में ; हम भी ग़म रखते , लेकिन दिल ही दिल में ।। ***************** बस जिस्म है ताक़तवर...Read more

∆ सॉनेट : 10 – राज़

होता कहीं अगर वह , बेहद न ख़ूबसूरत , होता तो प्यार उससे , इतना ज़बर न होता । होता वो दोस्त मेरा , दिलबर मगर न होता , होती भले ही मुझको , महबूब की ज़रूरत ।। पूछा जो...Read more