∆ सॉनेट : 11 – उधार

जब-जब जो तू ने माँगा , मैंने दिया है तब तब , लौटा सके तो वो-वो , लौटा दे मुझको लाकर , रहता जहाँ पे मैं हूँ , उस ही जगह पे आकर , तिनका भी छोड़ना मत , देना...Read more