मुक्तक : 1032 – पागल दुनिया

हम तलवारों से सब्जी-भाजी काटें , भालों से कपड़े सिलने का काम करें ।। पाॅंवों को हाथों में रख सिर से भागें , लेटे-लेटे काम खड़े आराम करें ।। ये सब देख चिढ़ाते हॅंस-हॅंस पड़ते हैं , यूॅं ही आ...Read more