हर वक़्त ही जो दिल के पास है वो जिस्म से ,             धरती से चाॅंद जितना बल्कि और दूर है ।।               ऑंखों की मेरी सुर्ख़ियाॅं ख़राबियाॅं नहीं ,                   उससे ही एक तरफ़ा इश्क़ का सुरूर है ।।             जिसकी मेरी कहीं तुनुक बराबरी नहीं ;                     जो कोहिनूर मैं ज़मीं का ज़र्रा भी नहीं ;                       मैं जिसको चाहता हूॅं जो मुझे नहीं तो ये ,               उसका नहीं गुनाह सब मेरा क़ुसूर है ।।                         -डॉ. हीरालाल प्रजापति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *